Subscribe my YouTube channel

https://youtu.be/euO6gP4ccLw

Advertisements

चांद के निकलने का इंतजार करती क्यूं हो।

चॉद के निकलने का इन्तज़ार करती हो तुम.. यूं भूखे पेट,, मेरे लिए दिन भर रहती हों तुम.. आज मुझे चांद से नफ़रत सा हो रहा है, क्यो इस चांद से मेरे लिए दुआ करती हो तुम.... मेरी चांदनी.. तेरे ग़म का बोझ मैं उठाऊं तो कैसे, बोल, चांद बनकर तेरे छत पे निकल आऊ... Continue Reading →

नया नहीं कुछ जीने में

क्या बताऊं कि कुछ रहता नहीं नया ,यहां अब जीने में ___ जो नभ में बादल आए हैं आए थे वर्षों पहले भी , तुमने भी देखा होगा कुछ ___ झड़ते पत्तों को पतझड़ में वही बसंत है आती ____ अब भी हर दिन हर महीने में क्या बताऊं कि कुछ रहता नहीं नया यहां... Continue Reading →

A page from my dairy….

उसके होठों से छलकती वो नशीली बातें जी चाहता हर पल हर घड़ी उसे ही सुनता रहूं बोलने को बहुत कुछ है मगर..अल्फाज है जो बयां नहीं होते मानो शब्द रूठ से गए हो... आंखें सुर्ख होकर बैठी है अगर साथ है तो सिर्फ तन्हाई और बेचैनी जो हर सांझ एक पुरानी प्रेमिका की तरह... Continue Reading →

मैं अक्सर देखता हूं…

मैं अक्सर देखता हूं रातों में टिमटिमाते तारों को अंधेरी गलियों में भटकती ख्वाबों और ख्यालों को, रातों के साए में ही दफन होते हैं न जाने कितने सपने हजारों के भीड़ में खो जाते हैं न जाने कितने अपने , तन्हाइयों के इस आयाम में कुछ भी नहीं दिखता जो साथ है भी वह... Continue Reading →

दिल के गलियारों में!!

गम के अंधियारों में ख्वाबों और ख्यालों की बेहिसाब वादों में तुम चली आती हो बेरोक बे टोंक दिल की गलियारों में! मैं रोकू भी तो कैसे तुम और तुम्हारी कभी ना खत्म होने वाली यादों को मैं जंलू भी तो कैसे खुद की बनाई बेहिसाब ख्यालो और ख्वाबों की लपटों में ना मेरे एहसासों... Continue Reading →

तेरी मौत मांगता हूं

उसकी मासूम आंखों से कैसे तुमने अपनी आंखें मिलाया होगाउसके चेहरे पर खीेलती मुस्कुराहट को कैसे तुमने रुलाया होगावह मासूम जो तुम्हारी बेटी सी हैउसे दर्द से कैसे तुम्नें तड़पाया होगाकैद करके रूह को अपनेतुमने कैसे अपनी मर्दानगी को आजमाया होगातुम्हें खुदा का डर नहीं मानता हूंतुमने कैसे अपनी बेटियों को भूलाया होगावो चिख तेरी... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑