शुभकामना..

सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते. ╔══════════════════╗ ║       •||जय माता दी||•         ║ ╚══════════════════╝        सुख, शान्ति एवम समृध्दि की                        मंगलमयी             कामनाओं के साथ   ... Continue Reading →

I may fall down…!

There is a suspicion.. that i have to make a decision, Once someone had told me... "don't fly higher if you do..... you may fall down too! But if i don't fly... how may I be alive, I want to have a life.. with a purpose and a goal, But what should I do... to... Continue Reading →

कौन हैं हिन्दूस्तानी…

आय दिन सुनता हूँ, रहगुजर मजहबो की बाते.. कोई हिन्दू है,कोई मुसंलमा कोई सिख, कोई ईसाई.. अपने बुते,ये बुद्धीजिवी बॉट कर देश को. कर रहें है मनमानी... मगर कोई नही कहता, कि कौन है हिन्दूस्तानी ! जो सरहद पर मौत से खेलता है.. छुपम-छुपाई, जो खेतो मे दम तोड़ता है.. वो बेचारा,बदनसिब भाई, या वो... Continue Reading →

वह दिन नही….

वह दिन नही, मेरी जिन्दगी का त्योहार था.. मेरी दिल में आई खुशियो का बहार था, हुस्न कि आँधि यूँ चली थी.. धड़कनें और तेज धड़कती थी, आँखो मे खुमार था.. उस नाचीज के लिए बेंतिह्आ प्यार था, कानो को उसकी आहट चाहिए थी.. ये तो इश्क का बुखार था, वह दिन नही, मेरी जिन्दगी... Continue Reading →

16 Dec 2012..

  वो डरावनी रात.....! अभी-अभी ऑसमां ने.. काला चादर ओढ लिया, जलते- बुझते टिमटिमाते तारो ने.. मानो उन्हें खुबसुरती दिया, हर रोज की तरह दूधिया रौशनी.. के साथ चँदऱमा भी निकल गया, ये रात थी,16 दिस्मबर 2012 ,की.... खामोशी और तन्हाई से भरी रात, दो खुबसुरत इंसान ,घर से निकले थे.. एक साथ, उस टिमटिमाती... Continue Reading →

SomedaY….!

Someday when the pages of my life ends, You will be one of it's most beautiful chapter...   and if i got to read it again ,I will open it from the page where "I meet You".

Dil ki baatee.

इक रोज ख्यालो मे, मेरी बोझल पलको से... उसने क्यो पूछा... सो जाने को ! निदें गहरी थी.. खव्वाबो के सायों मे, फिर उसने क्यो पूछा.. खव्वाबो को खो जाने दो.. रातो को खव्वाबो में , मुझे सो जाने दो फिर सोचता हूँ.... जाने किस खव्वाब को जि रहा था मै, ख्यालो को ही जिन्दगीं... Continue Reading →

तुम लौट कर आ जाओ न…

किन आँखो से अब मैं तुम्हे देख पाऊँगा ... न जाने किन सासों से तुम्हें महसुस कर पाऊँगा यादो में न जाने कहॉ खो गये तुम.. तन्हाईयों मे न जाने कहॉ गुम हो गये तुम  मुझे याद है ,तुम्हारी वो हर छोटी सी बात... मुस्कुराहटें तुम्हारी और वो हर प्यारी सी मुलाकात खव्वाबों को तोड...तुम... Continue Reading →

माँ…📝

माँ तू न होती अगर....! माँ तू न होती अगर... फिर कहाँ मैं भी होता | तेरे अंदर ही मैं महफूज था... वरना इस दुनिया मे आते हि ... मैं क्यो रोता ा..!    माँ तू न होती अगर....! फिर कहाँ मैं भी होता | मैने देखा है  मॉ तेरी बैचैनियों को.. फिक्र अौर चिंता से... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑